ख्वाब

156723456
कभी जो मेरी आँखों ने,
वो ख्वाब देखे होंगे
कभी जो कोई सपने ने,
जीने की वजह दी होगी
.
किसी किश्ती पे बैठा हूँ,
सुबह के इंतज़ार म़ें
शाम ढल जाने को है,
किनारों का पता नहीं
.
ओ माँझी, तेरी नाव में,
भरोसा भी तो तेरा है
ऐ सागर, तेरी लहरों ने,
हमें कुछ तो सिखाया है
.
आँसू हैं इन आँखों में,
जरा सी उखड़ी साँसें है
ख़ुशी से डूब जाऊंगा,
या दरिया तैर जाऊंगा
………….
आकर्ष

Published by

Akarsh verma

Voracious Reader | Curious Learner | Programmer by Profession | Dreamer | Kid at heart and boy i cherish it. ♥ I tweet at : http://twitter.com/akarsh_verma

2 thoughts on “ख्वाब”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s